Heart Broken Shayari for Whatsapp, facebook and Instagram

Dil Jo Toota Toh Kayi Haath Duaa

Dil Jo Toota Toh Kayi Haath Duaa Ko Uthhe,
Aise Mahaul Mein Ab KisKo Paraya Samjhein.

दिल जो टूटा तो कई हाथ दुआ को उठे,
ऐसे माहौल में अब किसको पराया समझें।

Do Shabdon Mein Simti Hai Meri Mohabbat

Do Shabdon Mein Simti Hai Meri Mohabbat Ki Daastan,
Use Toot Kar Chaha Aur Chaah Kar Toot Gaye.

दो शब्दों में सिमटी है मेरी मुहब्बत की दास्तान,
उसे टूट कर चाहा और चाह कर टूट गये।

Ishq Mein Mera Iss Kadar Tootna Toh

Ishq Mein Mera Iss Kadar Tootna Toh Lazimi Tha,
Kaanch Ka Dil Tha Aur Mohabbat Patthar Se Ki Thi.

इश्क़ में मेरा इस कदर टूटना तो लाजमी था,
काँच का दिल था और मोहब्बत पत्थर से की थी।

Kaun Kehta Hai Ki Dil

Kaun Kehta Hai Ki Dil
Sirf Lafzo Se Todaa Jaata Hai?
Teri Khaamoshi Bhi Kabhi Kabhi
Aankhein Nam Kar Deti Hai.

कौन कहता है कि दिल
सिर्फ लफ्जों से तोड़ा जाता है?
तेरी ख़ामोशी भी कभी कभी
आँखें नम कर देती है।

Khwahishein Thi Chaand Taare Tod

Khwahishein Thi Chaand Taare Tod Lane Ki Magar,
DekhK  Lo Bhikhra Pada Hai Woh Zamin Par Toot Kar.

ख्वाहिशें थीं चाँद तारे तोड़ लाने की मगर,
देख लो बिखरा पड़ा है वो जमीं पर टूट कर।

Jaan Iraadon Mein Abhi Bhi Kyun Itni

Iraadon Mein Abhi Bhi Kyun Itni Jaan  Baki Hai,
Tere Kiye Vaadon Ka Imtehaan Abhi Baki Hai,
Adhuri Kyun Reh Gayi Tumhari Yeh Berukhi,
Abhi Dil Ke Har Tukde Mein Tera Naam Baki Hai.

इरादों में अभी भी क्यों इतनी जान बाकी है,
तेरे किये वादों का इम्तिहान अभी बाकी है,
अधूरी क्यों रह गयी तुम्हारी यह बेरुखी,
अभी दिल के हर टुकड़े में तेरा नाम बाकी है।

Kisi Toote Huye Dil Ki Aawaaj Mujhe

Kisi Toote Huye Dil Ki Aawaaj Mujhe Kahiye,
Taar Jiske Sab Tute Ho Woh Saaz Mujhe Kahiye
Main Kaun Hoon Aur Kiske Liye Zindaa Hoon,
Main Khud Nahi Samajha Woh Raaz Mujhe Kahiye.

किसी टूटे हुए दिल की आवाज मुझे कहिये,
तार जिसके सब टूटे हों वो साज़ मुझे कहिये,
मैं कौन हूँ और किसके लिए जिंदा हूँ,
मैं खुद नहीं समझा वो राज मुझे कहिये।

1Ghayal Karke Mujhe Usne Puchha0

Ghayal Karke Mujhe Usne Puchha,
Karoge  Kya  Phir Mohabbat Mujhse,
Lahu-Lahu Tha Dil  Magar,
Honthon Ne Kaha BeIntehan-BeIntehan.

घायल करके मुझे उसने पूछा,
करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,
लहू-लहू था दिल मगर
होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।

Main bathunga jrur mehfil me magar

Main bathunga jrur mehfil me magar piyunga nhi

Kyonki mera gam mita de itni shraab ki aukat nhi

 

मैं बैठूंगा जरूर महफ़िल में मगर पियूँगा नहीं

क्योंकि मेरा गम मिटा दे इतनी शराब की औकात नहीं

Jaane Lage Jab Wo Chhod Ke Daaman

Jaane Lage Jab Wo Chhod Ke Daaman Mera,
Toote Hue Dil Ne Ek Himaakat Kar Di,
SochaTha Ke Chhupa Lenge Gham Apna,
Magar Kambakht Ankhon Ne Bagawat Kar Di.

जाने लागे जब वो छोड़ के दामन मेरा,
टूटे हुए दिल ने एक हिमाक़त कर दी,
सोचा था कि छुपा लेंगे ग़म अपना,
मगर कमबख्त आँखों ने बगावत कर दी।